यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

01 जनवरी, 2011

"शुभ हो सबको यह नया साल" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


खाने को मिलता रहे माल!
शुभ हो सबको यह नया साल!!

स्वस्थ रहें नर और नारी,
सन्तान रहें आज्ञाकारी,
कचरा नहीं बीने कोई बाल!
शुभ हो सबको यह नया साल!!

♥ अब देखिए आज के चित्र पर कविता ♥

छील पेंसिल को मैंने इस कागज पर चिपकाया है।
देखो मम्मी मैंने कितना सुन्दर चित्र बनाया है।।

हरे रंग से पौधे में पत्तियाँ बनाई।
लाल रंग से इसमें कलियाँ बहुत सजाई।।

छीलन को चिपकाकर मोहक फूल खिलाए।
मेरी चित्रकला सबका मन बहुत लुभाए।।

सुमनो से बढ़कर दुनिया में कुछ नहीं होता।
इन्हें देखकर रोता बालक भी चुप होता।।

लिखना सदा सुलेख, मनोरम चित्र बनाना।
बैर-भाव को भूल सभी को मित्र बनाना।।
चित्रांकन-प्रांजल

7 टिप्‍पणियां:

  1. नववर्ष स्वजनों सहित मंगलमय हो आपको । सादर - आशुतोष मिश्र

    जवाब देंहटाएं
  2. आपको तथा आपके पूरे परिवार को नए साल की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर कलाकारी ...खूबसूरत रचना

    नव वर्ष की शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  4. सर्वे भवन्तु सुखिनः । सर्वे सन्तु निरामयाः।
    सर्वे भद्राणि पश्यन्तु । मा कश्चित् दुःख भाग्भवेत्॥

    सभी सुखी होवें, सभी रोगमुक्त रहें, सभी मंगलमय घटनाओं के साक्षी बनें, और किसी को भी दुःख का भागी न बनना पड़े .
    नव - वर्ष २०११ की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    जवाब देंहटाएं
  5. नए साल की पहली पोस्ट.प्यारी रचना....अच्छी लगी.
    नव वर्ष पर आपको ढेर सारी बधाइयाँ.
    _____________
    'पाखी की दुनिया' में नए साल का पहला दिन.

    जवाब देंहटाएं
  6. नव वर्ष मंगलमय हो !
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।