यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

24 अगस्त, 2011

"थाली के बैंगन" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

गोल-गोल हैं, रंग बैंगनी,
बैंगन नाम हमारा है।
सुन्दर-सुन्दर रूप हमारा,
सबको लगता प्यारा है।।

कुछ होते हैं लम्बे-लम्बे,
कुछ होते हैं श्वेत-धवल।
कुछ होते हैं टेढ़े-मेढ़े,
कुछ होते हैं बहुत सरल।

सभी जगह पर थाली के 
बैंगन ही बिकने आते है।
चापलूस लोगों से तो,
सब ही धोखा खा जाते हैं।

इनका भरता बना-बनाकर,
चटकारे ले-लेकर खाना।
किन्तु कभी अपने जीवन में,
खुदगर्ज़ों को मुँह न लगाना।।
(कुछ चित्र गूगल छवियों से साभार)

21 टिप्‍पणियां:

  1. बैगन से भी सीख दी जा सकती है, कोई आपसे सीखे। इस कविता में क्या नहीं है! बैगन का रूप रंग, उपयोग, मुहावरे और अंत में कमाल तो आपने किया है संदेश देकर। अत्यंत प्रभावित करती रचना।

    जवाब देंहटाएं
  2. अच्छी कविता..सरल संदेश..

    जवाब देंहटाएं
  3. सीधी सच्ची बात, बच्चों से ज्यादा बड़ों के काम की, .....

    जवाब देंहटाएं
  4. किन्तु कभी अपने जीवन में,
    खुदगर्ज़ों को मुँह न लगाना...
    बच्चों और बड़ों सबके लिए सार्थक सन्देश ...
    आभार!

    जवाब देंहटाएं
  5. यही सही है कि इनका भरता बना लिया जाए।
    हम तो यही कर रहे हैं।
    आपके फ़ोटो ग़ज़ब के हैं आपके ही खींचे गए लगते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  6. क्या बात है...बहुत ख़ूब

    जवाब देंहटाएं
  7. सुन्दर और सरल संदेश देती कविता...

    जवाब देंहटाएं
  8. सभी जगह पर थाली के
    बैंगन ही बिकने आते है।
    चापलूस लोगों से तो,
    सब ही धोखा खा जाते हैं।
    बहुत ही अच्छी कविता और सन्देश देने वाली
    ..............धन्यवाद् ...

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी है ये कविता...थैंक्यू अंकल!!!

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर शास्त्री जी,स्वार्थी लोगों से बच कर रहना जरूरी है,परन्तु लगता है दुनिया में निस्वार्थ लोग बहुत कम हैं.

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत अच्छी लगी यह कविता,साथ में चित्र भी बहुत अच्छे हैं|उपयोगी संदेश देती हुई कविता के लिए धन्यवाद...|

    जवाब देंहटाएं
  12. बालोपयोगी सरलतम शब्दावली उत्कृष्ट कविता.

    जवाब देंहटाएं
  13. किन्तु कभी अपने जीवन में,
    खुदगर्ज़ों को मुँह न लगाना।।

    bilkl sahi kaha hai aapne, aabhaar.

    जवाब देंहटाएं
  14. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  15. सुन्दर सीख देती हुई रचना ...

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।