यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

15 दिसंबर, 2010

"कच्चे घर अच्छे रहते हैं" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

सुन्दर-सुन्दर सबसे न्यारा।
प्राची का घर सबसे प्यारा।।

खुला-खुला सा नील गगन है।
हरा-भरा फैला आँगन है।।

पेड़ों की छाया सुखदायी।
सूरज ने किरणें चमकाई।।

कल-कल का है नाद सुनाती।
निर्मल नदिया बहती जाती।।

तन-मन खुशियों से भर जाता।
यहाँ प्रदूषण नहीं सताता।।

लोग पुराने यह कहते हैं।
कच्चे घर अच्छे रहते हैं।।