यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

05 जून, 2011

"वृक्ष अमूल्य धरोहर हैं" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

विश्व पर्यावरण दिवस पर विशेष
रहता वन में और हमारे,
संग-साथ भी रहता है।
यह गजराज तस्करों के,
जालिम-जुल्मों को सहता है।।
समझदार है, सीधा भी है,
काम हमारे आता है।
सरकस के कोड़े खाकर,
नूतन करतब दिखलाता है।।
मूक प्राणियों पर हमको तो,
तरस बहुत ही आता है।
इनकी देख दुर्दशा अपना,
सीना फटता जाता है।।

वन्य जीव जितने भी हैं,
सबका अस्तित्व बचाना है,
जंगल के जीवों के ऊपर,
दया हमें दिखलाना है।
वृक्ष अमूल्य धरोहर हैं,
इनकी रक्षा करना होगा।
जीवन जीने की खातिर,
वन को जीवित रखना होगा।

तनिक-क्षणिक लालच को,
अपने मन से दूर भगाना है।
धरती का सौन्दर्य धरा पर,
हमको वापिस लाना है।।

13 टिप्‍पणियां:

  1. वृक्ष तो बचाने ही होंगे, अगर इस पृथ्वी पर जीवन बचाना है।

    जवाब देंहटाएं
  2. बाल कविता के माध्‍यम से बेहतरीन संदेश...
    शुभकामनाएं आपको

    जवाब देंहटाएं
  3. बेहतरीन संदेश... शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  4. वन और वन्य प्राणियों को लेकर बड़ी ही सधी हुयी प्रेरक रचना लिखी है आपने . आपकी अजस्र प्रतिभा से अभिभूत हूँ . आप की सक्रियता भी नि : संदेह एक कविता ही है जो सहज आह्लादित ही नहीं , उत्साहित भी करती है .
    आप ब्लागिंग के माध्यम से यों ही साहित्य जगत को उपकृत करते रहें , यही कामना है . मेरी अछोर शुभकामनाएं .

    जवाब देंहटाएं
  5. सुंदर कविता ......प्यारे चित्र

    जवाब देंहटाएं
  6. विश्व पर्यावरण दिवस पर बहुत सुन्दर प्रस्तुति...आभार शास्त्री जी

    जवाब देंहटाएं
  7. विश्व पर्यावरण दिवस की एक बहुत ही सुन्दर और सचेत करती रचना।

    जवाब देंहटाएं
  8. सच... में बेहतरीन ...बहुत उम्दा

    जवाब देंहटाएं
  9. सुन्दर कविता...सुन्दर चित्र..सुन्दर सीख.
    ___________________

    'पाखी की दुनिया ' में आपका स्वागत है !!

    जवाब देंहटाएं
  10. सुंदर कविता ......प्यारे चित्र.सुन्दर सीख.

    जवाब देंहटाएं
  11. dr.saheb bachon ki blog dekhkar khub aanad aayaa viksh,bachen ,vayajeevon ki chitr may prastuti bha gayi sadhuwad

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।