यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

20 नवंबर, 2013

“तोते उड़ते पंख पसार” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मेरी बालकृति नन्हें सुमन से

एक बालकविता
"तोते उड़ते पंख पसार"
नीला नभ जिनका संसार। 
वो उड़ते हैं पंख पसार।। 
GO8F7402copyLarge2
जब कोई भी थक जाता है। 
वो डाली पर सुस्ताता है।।
तोता पेड़ों का बासिन्दा। 
कहलाता आजाद परिन्दा।। 
Parrot-BN_MR7817-w
खाने का सामान धरा है। 
पर मन में अवसाद भरा है।। 
लोहे का हो या कंचन का। 
बन्धन दोनों में तन मन का।। 
parrot_2
अत्याचार कभी मत करना। 
मत इसको पिंजडे में धरना।। 
कारावास बहुत दुखदायी। 
जेल नहीं होती सुखदायी।। 
tota
मत देना इसको अवसाद। 
करना तोते को आज़ाद।।