यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

06 जून, 2010

"कल मुझको तुम भूल न जाना!" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

आमों के बागों में जाकर,
आम टोकरी भरकर लाया!
घर के लोगों ने जी भरकर,
चूस-चूस कर इनको खाया!!
प्राची बिटिया और प्रांजल,
बड़े चाव से इनको खाते!
मीठे-मीठे और रसीले,
आम बहुत इनको हैं भाते!!
राज-दुलारो, नन्हे-मुन्नों,
कल मुझको तुम भूल न जाना!
जब मैं बूढ़ा हो जाऊँगा,
इसी तरह तुम मुझे खिलाना!!


13 टिप्‍पणियां:

  1. वाह्…………आमों के माध्यम से ज़िन्दगी का खाका खूब खींचा है।

    जवाब देंहटाएं
  2. आम तो बहुत खट्टे हैं लाख कोशिस करने पर एक को भी हाथ न लगा सका पर हम कब से अपने बलाग पर आपके आशीर्वाद की राह देख रहे हैं आप हैं कि आते ही नहीं।

    जवाब देंहटाएं
  3. पसंद के चटके के साथ आपका धन्यावाद जी

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर भाव लिए कविता |बधाई
    आशा

    जवाब देंहटाएं
  5. अच्छी सीख नन्हें मुन्नों को.

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर...मन को छू गयी ये रचना...

    सन्देश देती हुई ...

    जवाब देंहटाएं
  7. सुन्दर भाव के साथ दिल को छू लेने वाली कविता लिखा है आपने!

    जवाब देंहटाएं
  8. कल मंगलवार को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है



    http://charchamanch.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।