यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

25 जून, 2010

“भोजन सदा खिलाना!” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

IMG_1523
रबड़ प्लाण्ट का वृक्ष लगा है,
मेरे घर के आगे!
पत्ते खाने बकरे-बकरी,
आये भागे-भागे!

हुए बहुत मायूस,
धरा पर पर पत्ता कोई न पाया!
इन्हे उदास देखकर मैंने,
अपना हाथ बढ़ाया!!


झटपट पत्ता तोड़ पेड़ से,
हाथों में लहराया!
इन भोले-भाले जीवों का,
मन था अब ललचाया!!
IMG_1515आँखों में आशा लेकर,
सब मेरे पास चले आये!

चक-उचककर बड़े चाव से
सबने पत्ते खाये!!
IMG_1519 दुनिया के जीवों का,
यदि तुम प्यार चाहते पाना!
भूखों को सच्चे मन से
तुम भोजन सदा खिलाना!!



अब इस बाल-कविता को सुनिए-
अर्चना चावजी के स्वर में-




8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर संदेश देता बाल गीत्।

    जवाब देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को ब्लॉग के किसी एडमिन ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
  3. सुन्दर और बढ़िया सन्देश देती हुई उम्दा रचना! तस्वीरें बहुत अच्छी लगी!

    जवाब देंहटाएं
  4. good message , we should take care the feelings of our Pet. they are a Human being. i support vegetarianism
    and request other bloggers to be a vegetarian.

    thnx to mayank Uncle for posting a nice poem

    जवाब देंहटाएं
  5. भूखों को तुम सच्चे मन से,
    भोजन सदा खिलाना....

    जवाब देंहटाएं
  6. हा हा हा
    बेहद रोचक, मजेदार और मानवता से भरा हुआ.

    जवाब देंहटाएं
  7. सुन्दर सन्देश देती रचना...चित्र भी बहुत अच्छे हैं

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर बाल कविता..मजेदार.

    _______________________
    'पाखी की दुनिया' में 'कीचड़ फेंकने वाले ज्वालामुखी' जरुर देखें !

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।