यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

06 अप्रैल, 2010

“बिन वेतन का चौकीदार” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”

“आज मैं अपने कुत्ते “टॉम” को

कंघी कर रहा था तो

सरस पायस के सम्पादक

श्री रावेंद्रकुमार रवि ने

इसके ये प्यारे-प्यारे चित्र

मेरे कैमरे में कैद कर ही दिये!”

और बन गयी
यह प्यारी सी बाल-कविता!
टॉम हमारा कितना अच्छा!
लगता है यह सीधा सच्चा!!
IMG_1115
ठण्डे जल से रोज नहाता!
फिर मुझसे कंघी करवाता!! 
IMG_1118 बड़े-बड़े हैं इसके बाल!
एक आँख है इसकी लाल!!
IMG_1116घर भर को है इससे प्यार!
प्राची करती इसे दुलार!!
बिन वेतन का चौकीदार!
सच्चा है यह पहरेदार!!

17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर कविता और उससे भी सुन्दर टॉम है।
    घुघूती बासूती

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत प्यारी कविता....ताम भी बहुत खूबसूरत है

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह वाह...!!
    क्या चित्रमयी कविता..
    प्राची तो बहुत क्यूट है...और टाम बड़ा छैल-छबीला लगा है...
    सुन्दर ..बाल-कविता..
    आभार..

    जवाब देंहटाएं
  4. tom se milkar accha laga... Prachi is very cute....god bless her...

    जवाब देंहटाएं
  5. सुन्दर टॉम ... सुन्दर बाल-कविता ...

    जवाब देंहटाएं
  6. कित्ता सुन्दर लिखा है आपने..है ना. प्राची दीदी कित्ती प्यारी लग रही है और टॉमी तो पूरा शेरू लग रहा है.

    _________________________
    'पाखी की दुनिया' में जरुर देखें-'पाखी की हैवलॉक द्वीप यात्रा' और हाँ आपके कमेंट के बिना तो मेरी यात्रा अधूरी ही कही जाएगी !!

    जवाब देंहटाएं
  7. are wah.......ye to gazab ki kavita likhi hai aur uske sath lage chitra to jaise khud bol rahe hain.....prachi ko bahut bahut pyar.

    जवाब देंहटाएं
  8. बढ़िया गीत-सच्चे पहरेदार को समर्पित!!

    जवाब देंहटाएं
  9. जितना सुन्दर कविता है उससे ज़्यादा सुन्दर तो मुझे टॉम लगा! बहुत ही प्यारा है टॉम! मुझे तो मन कर रहा है कि अभी उसे गोदी में उठाकर खूब प्यार करूँ!

    जवाब देंहटाएं
  10. क्या खूब लिखा...मान gaye अब तो.

    *********************
    "शब्द-शिखर" के एक साथ दो शतक पूरे !!

    जवाब देंहटाएं
  11. डॉ. मयंक जी ने बहुत ही सुंदर कविता लिखी है... बिन वेतन का चौकीदार...ग़जब...फोटो भी प्यारा खिंचा है...बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  12. bahut pyaaree kavitaa aur chitr
    मिलो अपने नए दोस्त शुभम से यहां
    http://www.shubhamsachdeva.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।