यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

03 मार्च, 2010

“मदारी का खेल : रानीविशाल” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

"एक खेल मदारी का"

डम-डम, डम-डम डमरू बाजा।
उछला-कूदा, छुटकू राजा।।

खाना खाकर ताजा-ताजा।
ठुमक-ठुमककर छुटकू नाचा।।
वानर-राजा खेल दिखाते।
बच्चे तालीखूब बजाते।। 
छुटकी को कर रहा  इशारा।
लगता सबको कितना प्यारा।।
अब छुटकी भी उठकर आई।
खेल-खेल में धूम मचाई।।
सबको जमकर खूब हँसाया। 
हाथ जोड़कर शीश नवाया।।
कितनी मेहनत दोनों करते।
पेट मदारी का ये भरते।।