यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

12 मार्च, 2010

‘‘फ्रिज’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

image


बाबा जी का रेफ्रीजेटर,
लाल रंग का बड़ा सलोना।

किन्तु हमारा है छोटा सा,
लगता जैसे एक खिलौना।।


image


सब्जी, दूध, दही, मक्खन,
फ्रिज में आरक्षित रहता।

पानी रखो बर्फ जमाओ,
मैं दादी-अम्माँ से कहता।।


image


ठण्डी-ठण्डी आइस-क्रीम भी,


इसमें है जम जाती।


गर्मी के मौसम में कुल्फी,


बच्चों के मन को भाती।।
आम, सेब, अंगूर आदि फल,
फ्रिज में रखे जाते हैं।

ठण्डे पानी की बोतल,
हम इसमें से ही लाते हैं।।

इस अल्मारी को लाने की,
इच्छा है जन-जन में।

फ्रिज को पाने की जिज्ञासा,
हर नारी के मन में।।


image


घड़े और मटकी का इसने,
तो कर दिया सफाया है।

समय पुराना बीत गया,
अब नया जमाना आया है।।