यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

19 सितंबर, 2011

"यह है अपना सच्चा भारत" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

♥ यह है अपना सच्चा भारत ♥
सुन्दर-सुन्दर खेत हमारे।
बाग-बगीचे प्यारे-प्यारे।।

पर्वत की है छटा निराली।
चारों ओर बिछी हरियाली।।
सूरज किरणें फैलाता है।
छटा अनोखी बिखराता है।।

तम हट जाता, जग जगजाता।
जन दिनचर्या में लग जाता।।

चहक उठे हैं घर-चौबारे।
महक उठे कच्चे-गलियारे।।
गइया जंगल चरने जाती।
हरी घास मन को ललचाती।।

 नहीं बनावट, नहीं प्रदूषण।
यहाँ सरलता है आभूषण।।
खड़ी हुई मजबूत इमारत।
यह है अपना सच्चा भारत।।

19 टिप्‍पणियां:

  1. kya bat hai jnab dil hi jit liya aapne to iqbaal shaayr ko bhi pichhe chhod diyaa jnaab badhaai ho .akhtar khan akela kota rajsthan

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत खूबसूरत कविता है आपकी, मगर अफसोस की अब यह पंक्तियाँ महज़ पंक्तियाँ ही रह गई है
    नहीं बनावट, नहीं प्रदूषण।
    यहाँ सरलता है आभूषण।।
    माफ कीजिएगा जो लगा वो कह दिया...

    जवाब देंहटाएं
  3. तम हट जाता, जग जगजाता।
    जन दिनचर्या में लग जाता।।
    बहुत खूब...

    जवाब देंहटाएं
  4. सरल शब्दों में, आसानी से ग्राह्य और देश प्रेम से ओत प्रोत सुन्दर रचना है.

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर कविता!!! मन को भाती प्यारी कविता!!!

    जवाब देंहटाएं
  6. सरलता से बात कह देना ही आपकी खासियत है

    जवाब देंहटाएं
  7. सही है ....यही तो है अपना भारत

    जवाब देंहटाएं
  8. सच्चे भारत का बहुत खूबसूरत चित्र खींचा है।

    जवाब देंहटाएं
  9. तस्वीरें बहुत अच्छी है , कविता भी

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत खूबसूरत कविता है आपकी,

    जवाब देंहटाएं
  11. मन को भाती प्यारी कविता!!!

    जवाब देंहटाएं
  12. यही तो है अपना खूबसूरत भारत|

    जवाब देंहटाएं
  13. मनभावन बाल कविता....शुभ कामनाएं डा० साहब

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।