यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

06 जुलाई, 2014

"मीठे-मीठे और रसीले" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

आमों के बागों में जाकर,
आम टोकरी भरकर लाया!
घर के लोगों ने जी भरकर,
चूस-चूस कर इनको खाया!!
प्राची बिटिया और प्रांजल,
बड़े चाव से इनको खाते!
मीठे-मीठे और रसीले,
आम बहुत सबको हैं भाते!!
राज-दुलारो, नन्हे-मुन्नों,
कल मुझको तुम भूल न जाना!
जब मैं बूढ़ा हो जाऊँगा,
इसी तरह तुम मुझे खिलाना!!

7 टिप्‍पणियां:

  1. बच्चों के पाठ्यक्रम में लगाने योग्य बाल कविता |

    जवाब देंहटाएं
  2. ताजे-ताजे रसीले आम ...खाने को जी ललचा रहा है

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर आम, और कविता बहुत ही मीठी!

    जवाब देंहटाएं
  4. आम के स्वाद की तरह ही बहुत सुन्दर रचना...

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।