यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

18 फ़रवरी, 2010

“संगीता स्वरूप का बालगीत” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

“चूहे की होली” 


 चूहा  खेल रहा था होली।
रंगो की लेकर रंगोली।।

भर पिचकारी उसने मारी।
बिल्ली  मौसी भीगी सारी।।

अब बिल्ली को गुस्सा आया।
उसने चूहे को धमकाया।।

चूहा थर-थर काँप रहा था। 
डरकर माफ़ी  मांग रहा था।।

हंस कर तब बिल्ली ये बोली।
होली है भई , है भई  होली।।

चूहा  ये सुनकर मुस्काया। 
उसने लाल गुलाल  उड़ाया।।

दोनों ने त्यौहार मनाया।
होली का हुडदंग  मचाया।।

sangitaswaroop
(संगीता स्वरूप)
 

15 टिप्‍पणियां:

  1. वाह संगीता जी ! होली का सही मतलब आपने सहज तरीके से बाल गीत में बता दिया....यही है होली... जहाँ दुश्मन भी गले मिलकर रंग खेलते हैं...बहुत सुंदर

    जवाब देंहटाएं
  2. waaaaaaaaaaaaah bahut maza aaya ye poem padh kar...ek baar to laga ham play school me baithe hai..aur ye rhymes ga rahe hai...jhoom jhoom kar.
    bahut acchhi rachna...aage bhi intzar rahega.

    जवाब देंहटाएं
  3. सबसे पहले टिप्पणी मैं कर रही हूँ अपनी ही रचना पर....

    मैं श्री रूपचंद्र शास्त्री जी को धन्यवाद देना चाहती हूँ जिन्होंने इस रचना को सुधार है और मनमोहक बनाया है...और चित्र भी बहुत सुन्दर लगाया है...धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  4. सुन्दर गीत, होली क सही अर्थ अताता...आपको धन्यवाद संगीत जी!
    सादर
    रानीविशाल

    जवाब देंहटाएं
  5. hehhehehe...Mumma AUnty...maza aagaya..jaisa aap janti hain..k mera mood bada kharab sa tha..magar aapkebaal geet ne mere baal man ko khush kar diya..bahut mohak si pyari si kavita hui..:)

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर गीत. संगीता जी को बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  7. मजेदार
    आपकी रचना से होली के मूड में समय से काफी पहले आ गया

    जवाब देंहटाएं
  8. डरकर माफ़ी मांग रहा था।।nice

    जवाब देंहटाएं
  9. wah DI,Ek shaandar Kavita, chulbuli si
    lekin bahut hi gehra matlab batai hui , holi ke tyohaar ka

    जवाब देंहटाएं
  10. are waah.........sangeeta ji aapne to masumiyat se rang laga diya , bahut pyaari rachna

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर कविता..मजा आ गया...सच है..होली में तो सब बराबर हैं...

    जवाब देंहटाएं
  12. स्वरूप जी और शास्त्री जी!
    मेरा आभार स्वीकारें। बचपन को अपने भीतर जिलाए रख कर ही बच्चों के लिए रचा जा सकता है।

    जवाब देंहटाएं
  13. bahut bahut bahut sundar kavita...bachpan ki yaad dila gayi aapki kavita..
    Sangeeta ji aap ko aur Shastri ji dono hi prashansha ke patr hain..
    bahut bahut aabhaar..

    जवाब देंहटाएं
  14. sangeeta ji bahut hi sundar tarike se aapne holi ka mahattava samjh adiya........bahut hi sundar kavita.

    जवाब देंहटाएं
  15. संगीता स्वरूप जी का
    मनभाता बालगीत पढ़कर
    मन प्रसन्न हो गया!
    इस सुंदर रचना के लिए उनको
    तथा
    इस सुंदर रचना के
    अति सुंदर प्रस्तुतीकरण के लिए
    मयंक जी को बधाई!

    --
    कह रहीं बालियाँ गेहूँ की - "वसंत फिर आता है - मेरे लिए,
    नवसुर में कोयल गाता है - मीठा-मीठा-मीठा! "
    --
    संपादक : सरस पायस

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।