यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

10 फ़रवरी, 2011

"जीने का ये मर्म बताते" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

चंचल-चंचल, मन के सच्चे।
सबको अच्छे लगते बच्चे।।

कितने प्यारे रंग रंगीले।
उपवन के हैं सुमन सजीले।।
भोलेपन से भरमाते हैं।
ये खुलकर हँसते-गाते हैं।।

भेद-भाव को नहीं मानते।
बैर-भाव को नहीं ठानते।।

काँटों को भी मीत बनाते।
नहीं मैल मन में हैं लाते।।

जीने का ये मर्म बताते।
प्रेम-प्रीत का कर्म सिखाते।।

9 टिप्‍पणियां:

  1. शास्त्री जी, बच्चो का प्यारा परिचय, आपका स्नेह, सब बच्चो की धरोहर बने, सुन्दर भावाव्यक्ति के लिए धन्यवाद्

    जवाब देंहटाएं
  2. जीने का ये मर्म बताते।
    प्रेम-प्रीत का कर्म सिखाते....

    बहुत अच्छी रचना के लिए बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  3. भेद-भाव को नहीं मानते।बैर-भाव को नहीं ठानते।।
    काँटों को भी मीत बनाते।नहीं मैल मन में हैं लाते।।
    जीने का ये मर्म बताते।प्रेम-प्रीत का कर्म सिखाते।।

    वाह! कितनी सुन्दर बात कही है……………जीने को प्रेरित करती बेहद खूबसूरत रचना मन को भा गयी।

    जवाब देंहटाएं
  4. काँटों को भी मीत बनाते।नहीं मैल मन में हैं लाते।।
    जीने का ये मर्म बताते।प्रेम-प्रीत का कर्म सिखाते।

    क्या बात है...बहुत सुंदर।

    जवाब देंहटाएं
  5. वाकई बहुत सुन्दर बाल कविता है...

    जवाब देंहटाएं
  6. आद. शास्त्री जी,
    आपके इस कविता की जितनी भी प्रशंसा की जाय कम है !
    इतने सुन्दर भाव इतनी सरलता से आपने अभिव्यक्त किया है कि शब्द शब्द जीवंत हो उठे हैं !
    बधाई और साधुवाद !

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।