यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

08 मई, 2011

"सिखलाती गुणकारी बातें" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

चाट-चाट कर सहलाती है।
करती जाती प्यारी बातें।
खुश होकर करती है अम्मा,
मुझसे कितनी सारी बातें।।
बहुत चाव से दूध पिलाती,
बिन मेरे वो रह नहीं पाती,
सीधी सच्ची मेरी माता,
सबसे अच्छी मेरी माता,
ममता से वो मुझे बुलाती,
करती सबसे न्यारी बातें।
खुश होकर करती है अम्मा,
मुझसे कितनी सारी बातें।।
दुनियादारी के सारे गुर,
मेरी माता मुझे बताती,
हरी घास और भूसा-तिनका,
खाना-खाना भी बतलाती,
जीवन यापन करने वाली,
सिखलाती गुणकारी बातें।
खुश होकर करती है अम्मा,
मुझसे कितनी सारी बातें।।

16 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर बाल गीत्।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर कविता है । अच्छा लगा ।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर कविता...

    happy mothers day...
    क्या सीरत थी, क्या सूरत थी..
    पाँव छुए और बात बनी, अम्मा एक मुहूर्त थी...

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर और प्यारी गीत!

    जवाब देंहटाएं
  5. नन्हे -मुन्हे बच्चो के लिए एक नन्हा -सा गीत

    जवाब देंहटाएं
  6. सुंदर कविता ...प्यारे चित्र ....

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर कविता है ....चित्रे तो बहुत ही मनमोहक हैं......

    जवाब देंहटाएं
  8. कविता बहुत ही प्यारी ,सरल व गेय लगी ।मां तो मां ही होती है चाहे वह किसी की हो।कविता गुनगुनाते समय मां के प्रति श्रद्धा उपजती है ।
    सुधा भार्गव

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर बाल गीत्। धन्यवाद|

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।