यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

04 जून, 2011

"घर भर की तुम राजदुलारी" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


प्यारी-प्यारी गुड़िया जैसी,
बिटिया तुम हो कितनी प्यारी।
मोहक है मुस्कान तुम्हारी,
घर भर की तुम राजदुलारी।।

नये-नये परिधान पहनकर,
सबको बहुत लुभाती हो।
अपने मन का गाना सुनकर,
ठुमके खूब लगाती हो।।
निष्ठा तुम प्राची जैसी ही,
चंचल-नटखट बच्ची हो।
मन में मैल नहीं रखती हो,
देवी जैसी सच्ची हो।।

दिनभर के कामों से थककर,
जब घर वापिस आता हूँ।
तुमसे बातें करके सारे,
कष्ट भूल मैं जाता हूँ।।

मेरे घर-आगँन की तुम तो,
नन्हीं कलिका हो सुरभित।
हँसते-गाते देख तुम्हें,
मन सबका हो जाता हर्षित।।

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही अच्छा पोस्ट लिखा है आपने .!मेरे ब्लॉग पर आए ! आपका दिन शुब हो !
    Download Latest Music + Lyrics
    Shayari Dil Se
    Download Latest Movies Hollywood+Bollywood

    जवाब देंहटाएं
  2. दिनभर के कामों से थककर,
    जब घर वापिस आता हूँ।
    तुमसे बातें करके सारे,
    कष्ट भूल मैं जाता हूँ।।
    सुन्दर वास्तविक वात्सल्य

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।