यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

22 नवंबर, 2011

"बेटी कुदरत का उपहार" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


बिटियारानी कितनी प्यारी।
घर भर की है राजकुमारी।।

भोली-भाली सौम्य-सरल है।
कलियों जैसी यह कोमल है।।

देवी जैसी पावन सूरत।
ममता की है जीवित मूरत।।

बेटी कुदरत का उपहार।
आओ इसको करें दुलार।।

19 टिप्‍पणियां:

  1. बेटियाँ वाकई कुदरत का बेहतरीन उपहार हैं.
    सुन्दर रचना.

    जवाब देंहटाएं
  2. उत्तम भावों की गहन अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  3. कुदरत का बेहतरीन उपहार बेटियाँ होती है काश ये बात सबको समझ आ जाये।

    जवाब देंहटाएं
  4. इसमें कोई संदेह नहीं कि बेटियाँ कुदरत का अनुपम उपहार है, कविता में आपने भाव विह्वल कर दिया, बहुत ही सुन्दर रचना है यह,बधाईयाँ !

    जवाब देंहटाएं
  5. बेटियाँ वाकई कुदरत की उपहार हैं
    सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
  6. बेटियां सच में कुदरत का अनमोल तोहफा होती हैं....
    सुंदर रचना।

    जवाब देंहटाएं
  7. कुदरत के बेहतरीन उपहार बेटी पर लिखी यह रचना मन को छूती है।

    जवाब देंहटाएं





  8. आदरणीय डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक जी
    सादर प्रणाम !

    बेटी कुदरत का उपहार।
    आओ इसको करें दुलार।।

    बहुत सुंदर रचना है …

    बधाई और मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    जवाब देंहटाएं
  9. कोई संदेह नहीं शत प्रतिशत सहमत अच्छी रचना

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत ही प्यारी कविता...थैंक्यू अंकल बेटियों को इतना प्यार देने केलिए...

    जवाब देंहटाएं
  11. बेटियाँ वाकई कुदरत का बेहतरीन उपहार हैं

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।