यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

12 जनवरी, 2012

‘‘अद्भुत है मेथी की माया’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

सब्जी है यह प्यारी-प्यारी।
मेथी की महिमा है न्यारी।।

गोल-गोल पत्तों वाली है।
इसमें कितनी हरियाली है।।

घोट-पीसकर साग बनाओ।
या आलू संग इसे पकाओ।।

यकृत को ताकत यह देगी।
तन के सभी रोग हर लेगी।।


इसे लगाओ घर-आँगन में।
महक उगेगी यह उपवन में।।

अद्भुत है मेथी की माया।
करती यह निरोगी काया।।

11 टिप्‍पणियां:

  1. methi ki maaya , vaah vaah , aur aapki maya hai har topic par kavita rach dena ....

    जवाब देंहटाएं
  2. और मेथी के पराँठे -हरी मिर्चवाले.
    क्या दिव्य स्वाद !

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह छोटे छोटे आलू और भीनी भीनी मेथी का जवाब नहीं

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर... मैथी के पराठे..

    जवाब देंहटाएं
  5. बच्चों को मेथी जरूर आकर्षित करेगी अब तो ..

    जवाब देंहटाएं
  6. अपूर्व!
    इससे पहले मेथी पर
    मैंने कभी कोई कविता नहीं पढ़ी!

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर गुणकारी कविता...
    स्वस्थ नीरोगी
    सबके मन भाते
    मेथी पराठे|

    जवाब देंहटाएं
  8. आदरणीय शास्त्री जी ..सुन्दर सन्देश देती बाल रचना मधुमेह में भी रामबाण है यह मेथी ...
    आभार
    भ्रमर ५

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत ही सरल ढंग से मेथी का गुणगान .. और ऐसा कि जिसे बच्चे बच्चे याद कर लें .. वाकई मेथी बहुत ही लाभदायक है

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।