यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

24 दिसंबर, 2013

"मेरा झूला बड़ा निराला" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मेरी बालकृति नन्हें सुमन से
 
एक बालकविता
"मेरा झूला बड़ा निराला"
मम्मी जी ने इसको डाला।
मेरा झूला बडा़ निराला।।

खुश हो जाती हूँ मैं कितनी,
जब झूला पा जाती हूँ।
होम-वर्क पूरा करते ही,
मैं इस पर आ जाती हूँ।
करता है मन को मतवाला।
मेरा झूला बडा़ निराला।।

मुझको हँसता देख,
सभी खुश हो जाते हैं।
बाबा-दादी, प्यारे-प्यारे,
नये खिलौने लाते हैं।
आओ झूलो, मुन्नी-माला।
मेरा झूला बडा़ निराला।।

4 टिप्‍पणियां:


  1. मम्मी जी ने इसको डाला।
    मेरा झूला बडा़ निराला।।

    खुश हो जाती हूँ मैं कितनी,
    जब झूला पा जाती हूँ।
    होम-वर्क पूरा करते ही,
    मैं इस पर आ जाती हूँ।
    करता है मन को मतवाला।
    मेरा झूला बडा़ निराला।।
    सबको करता ये मतवाला
    मेरा झूला बड़ा निराला।

    सुन्दर गेय शैली में बाल गीत।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर बाल रचना..
    मुझे तो आज भी झूला देख खूब झूलने का मन करता है ... पर अब तो बच्चों के लिए दौड़ धूप में खुद ही झूलना हो जाता है दिन भर ..

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।