यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

04 फ़रवरी, 2014

""बगुला भगत" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मेरी बालकृति नन्हें सुमन से
"बगुला भगत" 
बगुला भगत बना है कैसा?
लगता एक तपस्वी जैसा।।

अपनी धुन में अड़ा हुआ है।
एक टाँग पर खड़ा हुआ है।।

धवल दूध सा उजला तन है।
जिसमें बसता काला मन है।।

मीनों के कुल का घाती है।
नेता जी का यह नाती है।।

बैठा यह तालाब किनारे।
छिपी मछलियाँ डर के मारे।।

पंख कभी यह नोच रहा है।
आँख मूँद कर सोच रहा है।।

मछली अगर नजर आ जाये।
मार झपट्टा यह खा जाये।।

इसे देख धोखा मत खाना।
यह ढोंगी है जाना-माना।।

2 टिप्‍पणियां:

  1. वाह.बाल-कविता पढ़ते मन भी बच्चा बन गया !

    जवाब देंहटाएं
  2. बगुला भगत बना है कैसा?
    लगता एक तपस्वी जैसा।।

    अपनी धुन में अड़ा हुआ है।
    एक टाँग पर खड़ा हुआ है।।

    धवल दूध सा उजला तन है।
    जिसमें बसता काला मन है।।

    मीनों के कुल का घाती है।
    नेता जी का यह नाती है।।


    सगरे कुल का यह घाती

    प्रजातंत्र का अपराधी है।

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।