यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

13 जुलाई, 2010

“स्लेट और तख़्ती” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

slate00
सिसक-सिसक कर स्लेट जी रही,
तख्ती ने दम तोड़ दिया है।
सुन्दर लेख-सुलेख नहीं है,
कलम टाट का छोड़ दिया है।।

patti1
दादी कहती एक कहानी,
बीत गई सभ्यता पुरानी,
लकड़ी की पाटी होती थी,
बची न उसकी कोई निशानी।। 

फाउण्टेन-पेन गायब हैं,
जेल पेन फल-फूल रहे हैं।
रीत पुरानी भूल रहे हैं,
नवयुग में सब झूल रहे हैं।। 

IMG_1104
 समीकरण सब बदल गये हैं,
शिक्षा का पिट गया दिवाला।
बिगड़ गये परिवेश ज्ञान के,
बिखर गई है मंजुल माला।।

9 टिप्‍पणियां:

  1. ांपने स्कूल के दिनों की याद आ गयी जब तख्ती बडे डिज़्ज़ीन डाल कर लेपते थे और कल्म को तिर्छी घड कर सुन्दर लिखाई करते। स्लेट तो जैसे वरदान थी। सुन्दर रचना बधाई

    जवाब देंहटाएं
  2. अब तो मेगनेट वाली स्लेट आ गई.. ये स्लेट तो पुरानी बात हो गई..

    जवाब देंहटाएं
  3. बचपन की यादें ताज़ा कर दी …………………आज के युग मे हमारे बच्चे तो जानते भी नही तख्ती क्या होती थी।

    जवाब देंहटाएं
  4. आपकी रचना पढ़ कर सच में तख्ती की लिपाई...और बांस की कलम याद आ गयी...
    स्लेट तो हमेशा गणित के सवाल हल करने के लिए इस्तमाल की ...

    बहुत सुन्दर कविता

    जवाब देंहटाएं
  5. सुन्दर बाल कविता..बधाई.
    _________________________
    अब ''बाल-दुनिया'' पर भी बच्चों की बातें, बच्चों के बनाये चित्र और रचनाएँ, उनके ब्लॉगों की बातें , बाल-मन को सहेजती बड़ों की रचनाएँ और भी बहुत कुछ....आपकी भी रचनाओं का स्वागत है.

    जवाब देंहटाएं
  6. हमने भी स्लेट और तख्ती देख ली...

    _____________________
    'पाखी की दुनिया' के एक साल पूरे

    जवाब देंहटाएं
  7. रचना बहोत पसंद आयि.....

    __________

    My new post: Father day card and cow boy

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।