यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

09 सितंबर, 2010

“घोड़ा” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

images (7)
मैं घोड़ा हूँ जानदार हूँ
स्वामीभक्त हूँ शानदार हूँ


खड़े-खड़े ही मैं सोता हूँ
कभी निराश नही होता हूँ 


ताकतवाला हिम्मतवाला
रणभूमि का हूँ मतवाला


युद्धक्षेत्र या कर्मक्षेत्र हो
अश्वमेध का धर्मक्षेत्र हो


इंजन हूँ मैं बिना भाप का
चेतक हूँ राणा प्रताप का
chetak

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर बाल कविता।

    जवाब देंहटाएं
  2. बाल सुलभ रचना है, शब्द साधारण , अपितु मेहनत अत्यधिक की गई है.
    - विजय तिवारी

    जवाब देंहटाएं
  3. घोड़ा मेरा पसंदीदा जानवर है , कभी कभी पापा भी धोदा बनते है

    जवाब देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  5. कित्ती प्यारी रचना ...बधाई.

    _____________________
    'पाखी की दुनिया' - बच्चों के ब्लॉगस की चर्चा 'हिंदुस्तान' अख़बार में भी

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।