यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

29 दिसंबर, 2010

"मिक्की माउस" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

मिक्की माउस कितना अच्छा।
लगता है चूहे का बच्चा।।

कितना हँसमुख और सलोना।
यह लगता है एक खिलौना।।

इसकी सूरत सबसे न्यारी।
लीची जैसी आँखें प्यारी।।

तन का काला, मन का गोरा।
मुझको भाता है यह छोरा।।
बालचित्रकार-प्राञ्जल

7 टिप्‍पणियां:

  1. लगता क्या?
    मिक्की माउस तो है ही चूहे का बच्चा!

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह ये तो बहुत सुन्दर है………गीत भी चित्र भी।
    प्रांजल को बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  3. खूबसूरत बालकविता ...चित्र भी सुन्दर ..प्रांजल को बधाई और शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  4. बधाई नन्हे चित्रकार को...कविता भी अच्छी लगी..
    आपको भी बधाई पुस्तकों के लिए ....

    जवाब देंहटाएं
  5. मान्यवर , नए विषय पर बड़ी ही रोचक और मौलिक कविता के लिए बधाई .

    जवाब देंहटाएं
  6. नववर्ष आपके लिए मंगलमय हो और आपके जीवन में सुख सम्रद्धि आये…एस.एम् .मासूम

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।