यह ब्लॉग खोजें

13 मई, 2010

“लीची के गुच्छे मन भाए!” (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

हरी, लाल और पीली-पीली!
बिकती लीची बहुत रसीली!!

IMG_1175
गुच्छा प्राची के मन भाया!
उसने उसको झट कब्जाया!!

IMG_1178 लीची को पकड़ा, दिखलाया!
भइया को उसने ललचाया!!

IMG_1179प्रांजल के भी मन में आया!
सोचा इसको जाए खाया!!

IMG_1180गरमी का मौसम आया है!
लीची के गुच्छे लाया है!!

IMG_1177दोनों ने गुच्छे लहराए!
लीची के गुच्छे मन भाए!!

10 टिप्‍पणियां:

  1. चुराने का मन हो रहा है लेकिन आपने मना कर रखा है........

    जवाब देंहटाएं
  2. लीची देखकर तो मुह में पानी आ गया , लीची पर कविता सुन्दर है

    जवाब देंहटाएं
  3. कविता और कविता का सचित्र प्रस्तुति..लाज़वाब शास्त्री जी..सुंदर कविता के लिए बधाई

    जवाब देंहटाएं
  4. चित्र और कविता ..दोनों ही बेमिसाल....

    लीची देख सबका मन ललचाया

    जवाब देंहटाएं
  5. आज तो सबका मन ललचा दिया………………बहुत सुन्दर कविता।

    जवाब देंहटाएं
  6. सुन्दर सुन्दर प्यारी प्यारी मीठी मीठी लीची देखकर तो मुँह में पानी आ गया! अब तो रहा नहीं जा रहा है तुरंत खाने का मन कर रहा है! तस्वीर के साथ साथ बहुत ही प्यारी रचना!

    जवाब देंहटाएं
  7. मनभावन होने के कारण
    चर्चा मंच पर

    इंद्रधनुष के सात रंग मुस्काए!

    शीर्षक के अंतर्गत
    इस पोस्ट की चर्चा की गई है!

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर..मुँह में पानी आ गया...

    ______________
    'पाखी की दुनिया' में आपका स्वागत है !!

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।