यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

01 मार्च, 2010

“मच्छर-दानी” (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


जिसमें नींद चैन की आती।
वो मच्छर-दानी कहलाती।।
लाल-गुलाबी और हैं धानी।
नीली-पीली बड़ी सुहानी।।
छोटी, बड़ी और दरम्यानी।
कई तरह की मच्छर-दानी।।
इसको खोलो और लगाओ।
बिस्तर पर सुख से सो जाओ।।
जब ठण्डक कम हो जाती है।
गरमी और बारिश आती है।।
 
तब मच्छर हैं बहुत सताते।
भिन-भिन करके शोर मचाते।।
खून चूस कर दम लेते हैं।
डेंगू-फीवर कर देते हैं।।
मच्छर से छुटकारा पाओ।
मच्छरदानी को अपनाओ।।

14 टिप्‍पणियां:

  1. आपको तथा आपके परिवार को होली की शुभकामनाएँ.nice

    जवाब देंहटाएं
  2. मयंक जी एक रंगदानी की भी व्‍यवस्‍था कीजिए
    या तो उसमें रंग भरे हों
    या सभी मन रंग से रंगे हों
    मच्‍छर कथा मैं सुनाता हूं
    एक युवा उत्‍साही युवा मच्‍छर घर लौटा तो उसके मच्‍छरबाप ने पूछा कैसा रहा सफर, बोला बहुत सुंदर सब मुझे देख कर खूब उछल भाग कर तालियां बजा रहे थे। निश्चित मच्‍छर बहुत खुश था बचने पर। पर मच्‍छरबाप ने चैन की सांस ली, उसके बेटे के उपर से खतरा जो टल गया।

    जवाब देंहटाएं
  3. मछारों से बचने का सन्देश देती अच्छी बाल कविता...
    होली की शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  4. होली पर हार्दिक शुभकामनाएं. पढ़ते रहिए www.sansadji.com सांसदजी डॉट कॉम

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत बढिया .. सपरिवार आपको होली की अनेको शुभकामनाएं !!

    जवाब देंहटाएं
  6. macchhar raja mujhe mat khana
    raato ke sipahi..kahi aur jana..

    bhi-bhi karega to lagaungi 4 dande..
    bulangi macchhardani..bhagungi tujhe..

    shastri ji aapki rachna se utsahit hokar ye lines likh payi.

    badhayi aapki rachna k liye.
    happy holi.

    जवाब देंहटाएं
  7. अच्छा संदेश!


    ये रंग भरा त्यौहार, चलो हम होली खेलें
    प्रीत की बहे बयार, चलो हम होली खेलें.
    पाले जितने द्वेष, चलो उनको बिसरा दें,
    खुशी की हो बौछार,चलो हम होली खेलें.


    आप एवं आपके परिवार को होली मुबारक.

    -समीर लाल ’समीर’

    जवाब देंहटाएं
  8. जय हो शास्त्री जी
    आनंद आ गया

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।