यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

03 मार्च, 2010

“मदारी का खेल : रानीविशाल” (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

"एक खेल मदारी का"

डम-डम, डम-डम डमरू बाजा।
उछला-कूदा, छुटकू राजा।।

खाना खाकर ताजा-ताजा।
ठुमक-ठुमककर छुटकू नाचा।।
वानर-राजा खेल दिखाते।
बच्चे तालीखूब बजाते।। 
छुटकी को कर रहा  इशारा।
लगता सबको कितना प्यारा।।
अब छुटकी भी उठकर आई।
खेल-खेल में धूम मचाई।।
सबको जमकर खूब हँसाया। 
हाथ जोड़कर शीश नवाया।।
कितनी मेहनत दोनों करते।
पेट मदारी का ये भरते।।

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही प्यारी कविता लगी ।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत अच्छा । बहुत सुंदर प्रयास है। जारी रखिये ।

    आपका लेख अच्छा लगा।

    हिंदी को आप जैसे ब्लागरों की ही जरूरत है ।


    अगर आप हिंदी साहित्य की दुर्लभ पुस्तकें जैसे उपन्यास, कहानी-संग्रह, कविता-संग्रह, निबंध इत्यादि डाउनलोड करना चाहते है तो कृपया किताबघर पर पधारें । इसका पता है :

    http://Kitabghar.tk

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर बाल रचना

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर...ऐसा लगा की सामने ही मदारी खेल दिखा रहा है.....बधाई

    जवाब देंहटाएं
  5. Aap sab ko bahut bahut dhanywaad aur sabse jyada aabhar adarniya Shashtriji ka jinhone rachana ke swarup ko apane shabd shilp se bahut khubsurat banaya hai...aapko phir se dhanyawaad!

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।