यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

18 मार्च, 2010

‘‘मेरा बस्ता कितना भारी’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


मेरा बस्ता कितना भारी।
बोझ उठाना है लाचारी।।


मेरा तो नन्हा सा मन है।
छोटी बुद्धि दुर्बल तन है।।


पढ़नी पड़ती सारी पुस्तक।
थक जाता है मेरा मस्तक।।


रोज-रोज विद्यालय जाना।
बड़ा कठिन है भार उठाना।।

कम्प्यूटर का युग अब आया।
इसमें सारा ज्ञान समाया।।


मोटी पोथी सभी हटा दो।
बस्ते का अब भार घटा दो।।


थोड़ी कॉपी, पेन चाहिए।
हमको मन में चैन चाहिए।।


कम्प्यूटर जी पाठ पढ़ायें।
हम बच्चों का ज्ञान बढ़ाये।


सस्ते में चल जाये काम।
छोटा बस्ता हो आराम।।


(चित्र गूगल सर्च से साभार)

8 टिप्‍पणियां:

  1. आज बच्चों के भारी बस्तों का सटीक चित्र खींचा है....बहुत अच्छी रचना...बधाई

    जवाब देंहटाएं
  2. Nice poem शास्त्री जी , मगर इस कंप्यूटर युग से बच्चो के आँखों का भी ख्याल रखना होगा !

    जवाब देंहटाएं
  3. बस एक स्‍लेट चाहिए। बस्‍ते का तो बोझ कम होना ही चाहिए।

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।