यह ब्लॉग खोजें

फ़ॉलोअर

31 मार्च, 2010

‘‘भँवरा’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


गुन-गुन करता भँवरा आया।
कलियों फूलों पर मंडराया।।


यह गुंजन करता उपवन में।
गीत सुनाता है गुंजन में।।


कितना काला इसका तन है।
किन्तु बड़ा ही उजला मन है।


जामुन जैसी शोभा न्यारी।
खुशबू इसको लगती प्यारी।।


यह फूलों का रस पीता है।
मीठा रस पीकर जीता है।।


(चित्र गूगल सर्च से साभार)

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपके लिखे बाल गीतों में ज्ञान का अनुपम भण्डार है....बहुत सुन्दर रचना..

    जवाब देंहटाएं
  2. कितना काला इसका तन है।
    किन्तु बड़ा ही उजला मन है।


    बहुत सही और सुन्दर , इंसानों में तो इसके बिलकुल उलट है !

    जवाब देंहटाएं
  3. संगीता जी ने सब कह दिया…………॥बहुत सुन्दर बाल गीत्।

    जवाब देंहटाएं
  4. bahut hee pyaara baal-geet , bhavare ki bhaanti hi gungunaane ko majboor karta hai , haardik badhaaii

    जवाब देंहटाएं
  5. बाल गीत में जान है ।
    दिल इस पर कुर्बान है॥

    जवाब देंहटाएं
  6. यह फूलों का रस पीता है।
    मीठा रस पीकर जीता है।।
    --
    काश, अगर मैं भँवरा होता,
    मैं भी रस पी-पीकर जीता!

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।